क्लास-10-ncert-विज्ञान-नोट्स-ncert solutions for class 10 science one liner notes

ncert science class 10 in hindi
class 10 science notes hindi

Ncert solutions for class 10 science in hindi

आनुवांशिकी  Genetics

👉आनुवाशिकता  शब्द  गठन स्पेंसर ने किया। तथा आनुवांशिकी पद का गठन बेटसन ने किया ।
👉जर्म्प्लाज्म का सिद्धांत विजमैन न दिया।
👉मोरगन ने सन 1910 में फल मक्खी पर कार्य करते हुए लिंग सहलग्न लक्षणों की जानकारी प्रस्तुत की।
👉जीन सिद्धांत प्रस्तुत करने के लिए मोरगन को नोबेल पुरस्कार दिया गया।
👉एक जीन एक एंजाइम सिद्धांत बीडल तथा टेटम ने न्यूरोस्पोरा कवक पर कार्य करते हुए यह सिद्धांत दिया इसके लिए इन्हें 1958 में नोबेल पुरस्कार मिला।
👉मानव जीनोम परियोजना का शुभारंभ 1988 में वाटसन के निर्देशन में हुआ।
👉जीन gene –जीवो के लक्षणों की अभिव्यक्ति तथा वंशानुगत ई के लिए उत्तरदाई होते हैं तथा डीएनए के बने होते हैं।
👉जीव के अगूणित गुणसूत्रों के सेट या जीनों को जीनोम कहते हैं।
👉पौधों में सबसे पहले लैंगिक जनन का वर्णन करने वाले वैज्ञानिक के केमेरिरियस थे।
👉दात्र कोशिका अरक्तता, हीमोफीलिया, वर्णांधता आदि जन्मजात या वंशागति रोग है।
👉मानव में गुणसूत्रों की संख्या 22 जोड़ी अलिंग गुणसूत्र तथा 1 जोड़ी लिंग सूत्र होते हैं। मानव में गुणसूत्रों की संख्या 46 होती है।
👉जीवों की अनुवांशिकी संगठन को जीन प्रारूप कहते हैं।
👉प्याज में गुणसूत्रों की संख्या 16 होती है।
ncert solutions for class 10 science
👉डाउन सिंड्रोम का कारण 21 वे गुणसूत्र की पुनरावृति से होता है।
👉डीएनए का मॉडल वाटसन व क्रिक नामक वैज्ञानिक ने प्रस्तुत किया था।
👉बेबी लोन के निवासी घोड़ों की वंशावली बनाने में निपुण थे
👉सन 1900 में पियरसन ने कई वर्ग परीक्षण का विकास किया।
👉एक्स गुणसूत्र आकार में बड़ा होता है तथा आकृति में सीधा होता है।
👉Y गुणसूत्र को आनुवंशिकी रूप से निष्क्रिय माना जाता है।
👉मेंडल वाद के पुनर खोजकर्ता:-होलैंड की हुगो डे व्रीज, जर्मनी के कार्ल कारेंस, ऑस्ट्रिया के इरिक वन शेरमक
👉इन तीनों वैज्ञानिकों ने मंडल के नियमों के अतिरिक्त अपूर्ण प्रभाविता, सह प्रभाविता तथा जीन अन्य क्रियाओं के मामलों की खोज की।
👉मेंडल ने प्रयोग हेतु उद्यान मटर में 7 जोड़ी लक्षणों का चयन किया था।
👉एक संकर अनुपात 3:1
👉दि संकरण अनुपात 9:3:3:1
👉मेंडल का जन्म 22 जुलाई 1822 को ऑस्ट्रिया देश में हुआ था।
👉मेंडल के तीन नियम-
1 प्रभाविता का नियम
2 पृथक्करण का नियम
3 स्वतंत्र अपव्हुन का नियम
👉जनक से संतति में लक्षणों का स्थानांतरण गुणसूत्रों द्वारा होता है।
👉जीवो के अनुवांशिक लक्षणों को कारक कहा गया कारक शब्द का प्रयोग सबसे पहले मंडल द्वारा किया गया।
👉अनुवांशिक लक्षणों के वाहक जीन होते हैं।
👉मानव जाति के अनुवांशिकी एक सुधार से संबंधित विज्ञान की शाखा को सुजनिकी की कहते हैं।
👉सर्टेन एवं बोवेरी ने सर्वप्रथम गुणसूत्र एवं जीन के मध्य संबंध को स्थापित किया।
👉गुणसूत्र की खोज स्टार्स बर्गर ने की तथा गुणसूत्र नाम डब्लू  वाल्डेयर ने दिया था।
👉न्यूक्लिक अम्ल-1869 मैं फ्रेडरिक मिशर ने मवाद कोशिकाओं के केंद्रक से एक विशिष्ट कार्बनिक पदार्थ की खोज की जिसे पहले न्यूक्लियन तथा बाद में न्यूक्लिक अम्ल कहा गया। 
👉प्रोटीन संश्लेषण का केंद्रीय सिद्धांत क्रिक ने प्रस्तुत किया।
👉लिंग सहलगन विकार-टर्नर सिंड्रोम, क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम आदि
👉जीन की उप इकाइयां-सिस्ट्रॉन , रैकोन, मुयुटॉन्न
👉महा गुणसूत्र वाला जंतु – ड्रोसोफिला काइरो नोमस लारवा। 
👉शरबती सोनारा गेहूं की एक उत्परिवर्तन किस्म है
👉कारक जीन है यह प्रमाणित बोवेरी व शटन ने किया।

ncert solutions for class 10 science in hindi

पारिस्थितिकी Ecology

👉इकोसिस्टम शब्द की रचना सन 1935 में एजी टेंस्लेे ने की थी।
👉प्रकृति में ऊर्जा का प्रमुख स्रोत सूर्य है।
👉ग्रीन हाउस प्रभाव CO2 देश की वायुमंडल में सांद्रता बढ़ने से उत्पन्न हुआ है
👉प्रकृति में जैविक क्रियाओं हेतु उपलब्ध जल की 1% मात्रा है।
👉ऊर्जा के पिरामिड सदैव सीधे होते हैं।
👉समस्त हारी पादप उत्पादक होते हैं।
👉पोषण की दृष्टि से कीट उपभोक्ता जिव है।
👉एक पोषण स्तर से दूसरे पोषण स्तर तक मात्र 10% ऊर्जा का स्थानांतरण होता है।
👉इकोलॉजी शब्द की उत्पत्ति ग्रीक भाषा के दो शब्दों से हुई है।
👉एक जाति के पर्यावरणीय अध्ययन को सवपारिस्थितिकी कहते हैं।
👉प्रकृति के स्वावलंबी तंत्र को परिस्थितिकी तंत्र कहते हैं।
👉पादपों में जल की हानि वाली क्रिया वाष्पोत्सर्जन कहलाती है।
👉खाद्य जाल में ऊर्जा का प्रवाह है सदैव एक दिशिय होता है।
👉असहजीवी नाइट्रोजन स्थिरीकरण कर्ता-एजोटोबेक्टर, क्लॉस्ट्रीडियम, नॉस्टॉक, एनाबिना आदि।
👉जीवाणु व कवक अपघटक कहलाते हैं।
👉परिस्थितिकी तंत्र का अस्तित्व को बनाए रखने में मुख्य भूमिका निभाता है-सूक्ष्म उपभोक्ता
👉विनाइट्रीकरण जीवाणु नाइट्रेट को अप गठित कर मुक्त नाइट्रोजन निकालते हैं
👉पौधे नाइट्रोजन को मृदा से नाइट्रेट के रूप में प्राप्त करते हैं।

ncert solutions for class 10 science

जैव प्रौद्योगिकी Biotechnology

👉जैव प्रौद्योगिकी शब्द का संगठन कार्ल इरिक ने किया।
👉प्रतिजैविक पेनिसिलियम- पेनिसिलियम नोटैटम नामक कवक से प्राप्त की जाती है।
👉रोस्लीन इंस्टीट्यूट एडिनबर्ग के एन इयान विल्मुट ने भेड़ के प्रतिरूप डोली को बनाने में सफलता प्राप्त की।
👉जीवाणुओं में उपस्थित अतिरिक्त वर्तुल डीएनए को प्लास्मिड कहते है।
👉एंटीजन- वह योगिक जो एंटीबॉडी निर्माण को प्रेरित करता है।
👉कैलस -घाव स्थान पर बनी उत्तक तथा पादप संबंधित अनियमित ट्यूमर जैसी रचना का निर्माण कैलस कहलाता है।
👉जीवाणु भोजी-जीवाणुओं को संक्रमित करने वाले वायरस जीवाणुभोजी कहलाते हैं।
👉वाहक-वे संरचनाएं जो डीएनए को एक जीव से दूसरे जीव में स्थानांतरित करती है उसे वाहक कहते हैं।
👉आनुवंशिकी रोग का निदान जीन उपचार से संभव है।
👉भारत में पेटेंट कानून 20 अप्रैल 1972 से लागू हुआ।
👉रिस्ट्रिक्शन एंजाइम के आविष्कारक वेरनर अरबेट थे।
👉वृद्धि नियामक हार्मोन- प्रोटीन, हार्मोन, ऑक्सिन, विटामिन आदि।
👉पादप उत्तक का वह अंग जिसे उसके मूल स्थान से अलग किया जाता है उसे करतोतक कहते हैं।
👉संवर्धन कक्ष का ताप सामान्य से 24 डिग्री सेल्सियस होना चाहिए।
👉पादप संवर्धन में कोशिकाओं , उत्तको, भूर्ण  व जीव द्रव्य का संवर्धन किया जाता है।
👉प्रतिरक्षा विज्ञान संस्थान नई दिल्ली में स्थित है।
👉कौशिकी एवं आणविक जीव विज्ञान केंद्र हैदराबाद में स्थित है।
👉नीफ जीन का कार्य नाइट्रोजन स्थिरीकरण करने का है।
👉भारत में प्रथम परखनली शिशु का जन्म 1986 में हुआ।
👉रुधिर रहित शल्य चिकित्सा लेजर तकनीकी है।
👉कैंसर उपचार में सीजीएम रेडियोएक्टिव तत्व काम में लिया जाता है।
👉एक क्लोन कि सभी कोशिकाएं सम्मान होती है।
👉वीर्य को पतला करने वाला कारक तनु कारक होता है।
👉तनु वीर्य को -196 डिग्री सेल्सियस पर रखा जाता है।
👉ब्लड कैंसर उपचार में काम आने वाला रेडियोएक्टिव तत्व स्वर्ण है।
👉विश्व की प्रथम परखनली शिशु लुइस जॉय ब्राउन है।
👉भारत में प्रथम परखनली शिशु हर्षा है।
👉जुड़वा बच्चों का परिवर्धन भ्रूण क्लोनिंग से किया जाता है।
👉वर्तमान में एक्स किरणों का उपयोग सीटी स्कैन में किया जाता है।

जंतुओं का आर्थिक महत्व Economic importance of animals

👉पादपों का आर्थिक महत्व की दृष्टि से अध्ययन की शाखा आर्थिक वनस्पति विज्ञान कहलाती है।
👉इमारती कास्ट वृक्ष का द्वितीयक जाइलम उत्तक होता है।
👉गोसीपीएम कपास का वैज्ञानिक नाम है तथा इसका कुल मालवीसी है।
👉हल्दी में  कुरुकमिन नामक पदार्थ मिलता है।
👉अनाज में कार्बोहाइड्रेट पाए जाते हैं।
👉दालों में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन उपस्थित होते हैं।
👉सब्जियों में विटामिन व खनिज लवण भरपूर होते हैं।
👉इमारती लकड़ी देने वाले कुछ पादप सागवान शीशम रोहिड़ा खेजड़ी आदि है।
👉ऐसे तीन पादप जिनकी पर्ण औषधीय महत्व के लिए उपयोगी होती है तुलसी ब्राह्मी ग्वारपाठा आदि।
👉व्यापारिक शर्करा का निर्माण गन्ने से होता है।
👉मक्का की वाणिज्य किस्म- फूली, मौच, मीठी मक्का आदि
👉चुकंदर की मूल से शक्कर प्राप्त की जाती है।
👉कागज बनाने वाले रेशे घास, सफेदा, शहतूत आदि से प्राप्त होते हैं।
👉फरुला पौधे की जड़ से हींग प्राप्त किया जाता है।
👉पुरुषों में पुरुषत्व की कमी होने पर सफेद मूसली प्रयुक्त की जाती है।
👉नारियल के भ्रूणपोष से तेल निकाला जाता है।
👉औषधि प्रदान करने वाले पौधे सर्पगंधा, अश्वगंधा, सिनकोना, धतूरा आदि हैं।
👉उच्च रक्तचाप के उपचार में प्रयुक्त औषधि सर्पगंधा है।
👉अफीम में सबसे सक्रिय तत्व मार्फिन है।
👉कॉफी पौधे के बीज से प्राप्त की जाती है जिसका नाम कॉफिया अरेबिका है।
ncert solutions for class 10 science

रक्त समूह एवं रक्त आधान Blood group and blood transfusion

👉रक्त समूह की खोज कार लैंड स्टिनर ने सन 1900 में की थी एंटीजन के आधार पर।
👉मनुष्य में रक्त में मिलने वाला प्रतिजन नहीं है- O
👉ए बी ओ रुधिर वर्ग का नियंत्रण करने वाले जीन विकल्पी 3 है।
👉भारत में 25% लोगों में रुधिर वर्ग ए पाया जाता है।
👉सार्वत्रिक दाता ब्लड ग्रुप ओ को कहा जाता है।
👉सार्वत्रिक ग्राही ब्लड ग्रुप एबी को कहा जाता है।
👉रुधिर में प्रतिजन लाल रुधिर कणिकाओं की झिल्ली पर उपस्थित होते हैं।
👉आरएच कारक की खोज मक्का का रिसस नामक बंदर से की गई।
👉एंटीबॉडी रुधिर के सिरम मैं उपस्थित होती है।
👉आरएच कारक की खोज लैंड स्टिनर तथा विनर ने की थी।
👉भारत में लगभग 93% व्यक्ति आरएच पॉजिटिव है।
👉एंटीजन प्रोटीन के बने होते हैं।
👉रुधिर परीक्षण के लिए साइट्रेट फास्फेट डेक्सट्रिन व एडीनिन मिलाकर किया जाता है।
👉एंटीबॉडीज प्रोटीन होते हैं।
👉एंटीबॉडीज का निर्माण प्लाज्मा में होता है।
👉10% व्यक्तियों में रुधिर वर्ग AB पाया जाता है।
👉आरबीसी की झिल्ली पर दो प्रकार की प्रतिजन पाए जाते हैं।
👉रुधिर वर्ग ओम में प्रतिजन का अभाव होता है इसलिए इसे शून्य वर्ग भी कहा जाता है।
👉भारत में 7% व्यक्ति आरएच नेगेटिव होते हैं।
👉आरिफ तत्व एक विशेष प्रकार का एंटीजन होता है।

जीन अभियांत्रिकी Gene engineering

👉मधुमेह के उपचार में इंसुलिन उपयोगी है।
👉जीवाणु Bt विष का संश्लेषण करते हैं।
👉अनुवांशिक पदार्थ जीव के जीवन का आधार होता है।
👉अग्नाशय की बीटा कोशिकाएं इंसुलिन का निर्माण करती है।
👉रुधिर स्कंदन कारक पुनः संयोजी डीएनए से प्राप्त किया जा सकता है।
👉काली खांसी, मस्तिष्क ज्वर व हरपीज का टीका पुनः संयोजी डीएनए के उत्पाद है।
👉इंटरलुकिन प्रतिरक्षा तंत्र की सक्रियता में वृद्धि करता है।
👉कैंसर जीन प्रयुक्त ट्रांसजेनिक चूहे को ओंको माउस कहते हैं।
👉मधुमेह रोग का वैज्ञानिक नाम डायबिटीज मेलिटस है।
👉डीएनए को रिस्ट्रिक्शन तथा एंडोन्यूक्लीज एंजाइम द्वारा काटा जाता है।
👉हीमोफीलिया रोधी – कारक VIII है।
👉बंदर का क्लोन एंड्री है।

मानव स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले कारक Factors affecting human health

👉SPM वायु प्रदूषण से संबंधित है।
👉सूर्य से आने वाली पराबैंगनी किरणों से पृथ्वी वासियों को बचाने वाली गैस ओजोन है।
👉बढ़ते जल प्रदूषण का कारण बढ़ती जनसंख्या और औद्योगिककरण है।
👉ध्वनि प्रदूषण को मापने वाली इकाई डेसीबल है।
👉वायुमंडल में सूक्ष्म कणों की मात्रा  बढ़ने से होने वाले रोग का नाम क्षय रोग है।
👉सूर्य के प्रकाश के साथ पराबैंगनी हानिकारक  किरणे आती है।
👉जल में फ्लोराइड की उपसथिति दांत एवं हड्डियों को हानि  पहुंचाते हैं।
👉80db से अधिक की ध्वनि चिड़चिड़ापन पैदा करती है ।
👉सूक्ष्मजीवों को देखने में सहायक यंत्र सूक्ष्मदर्शी है।
👉शल्य चिकित्सा का जनक सुशुर्त है।
👉रोगाणु सिद्धांत रॉबर्ट कोच के द्वारा दिया गया।
👉वायुमंडल में नाइट्रोजन  78% है।
👉हेजा का रोगजनक विब्रियो कोलेरी है।
👉दर्द निवारक दवा बनाने में प्रयुक्त एल्केलायड मार्फिन है।
👉अफ़ीम के डोडे उबालकर पिए जाते है।
👉थायमिन कि कमी से होने वाला रोग बेरी – बेरी है।
👉सभी खाद्य पदार्थों में पाया जाने वाला तत्व – पोटेशियम है।
👉ओजोन परत के अपक्षय के लिए उत्तरदाई यौगिक CFC क्लोरो फ्लोरो कार्बन है।
👉वायु प्रदूषण से होने वाले रोग – कफ , अस्थमा आदि 
👉गुटखा खाने से सब म्यूकस फाइब्रोसिस नामक रोग होता है।इसमें जबड़े ठीक से नही खुलते है।
👉हड्डियों को मजबूत बनाने वाले तत्व का नाम कैल्सियम है।

मानव रोग कारण एवं निवारण Human disease causes and prevention

👉 एंटीरेट्रोवायरल एड्स के उपचार हेतु उपयोग लिए जाने वाली औषधि है।
👉वैदिक कालीन चिकित्सक चरक और सुश्रुत
👉चिकन पॉक्स का रोगजनक-वेरी सैला जोस्टर
👉मलेरिया का रोग वाहक-मादा एनाफिलीज मच्छर
👉डेंगू का रोग वाहक-एडिस ए
👉कैंसर एक उत्परिवर्तन जनित रोग है।
👉एकलिंग सहलगन रोग का नाम हीमोफीलिया है।
👉डीपीटी टीके का पूरा नाम-डिप्थीरिया परट्यूसिस डिटेनस है
👉9 दिसंबर 1995 को पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान प्रारंभ किया गया।
👉काला अजर रोग का संक्रमण लिशमानिया परजीवी से होता है।
👉एंटीबॉडीज का निर्माण प्लाज्मा में होता है।
👉क्षय रोग के बचाव हेतु बीसीजी का टीका लगाया जाता है।
👉रेबीज रोग का रोगजनक- रेहबड़ों वायरस
👉हाथीपांव रोग का वाहक मच्छर-एडीज
👉बीसीजी-बेसिलस कैलेमिटी गुरीन
👉क्षय रोग के कारणों की खोज 1882 में रॉबर्ट कोच ने की थी।
👉मलेरिया रोग के उपचार हेतु औषधियां-कुन्नैन, क्लोरोक्वीन, प्राइमक्वीन, पेलुड्रिन।
👉एड्स का पूरा नाम-एक्वायर्ड इम्यूनोडिफिशिएंसी सिंड्रोम।

उन्नत कृषि Advanced agriculture

👉बीज सुधारक का प्रमुख उद्देश्य होता है अधिक उपज करना।
👉चावल की उन्नत किस्में -IR 36, पूसा बासमती, विकास आदि।
👉पौधों को जल के द्वारा हाइड्रोजन की प्राप्ति होती है।
👉वर्मी कंपोस्ट बनाने वाला जीव केंचुआ होता है। इसीलिए केचुआ को किसान का मित्र कहा जाता है।
👉अविकल्पी परजीवी समूह वायरस होता है।
👉दूध को जीवाणुओं से बचाने वाली विधि पाश्चुरीकरण है।
👉कृषि का इतिहास लगभग 1000 वर्ष पुराना है।
👉प्राचीन काल में काम में लाई जाने वाली खाद वर्मी कंपोस्ट कहलाती है।
👉परजीवी प्रकृति के जीवाणु पादपों में रोग उत्पन्न करते हैं।
👉मिर्च की उन्नत किस्म मथानिया है
👉पूसा बोल्ड उन्नत किसम सरसों की है।
👉फसलों में होने वाले पादप रोगों के कारण एवं उनकी रोकथाम के अध्ययन को परजीवी विज्ञान कहते हैं।
👉तंबाकू की पत्तियों पर पहले जैसी धब्बे मोजेक रोग के सूचक होते हैं।
👉विषाणु के संक्रमण योग्य करण को विरियोन कहते हैं।
👉खरपतवार नियंत्रण की प्रमुख विधि यांत्रिक नियंत्रण है।
👉भारत में हरित क्रांति का स्वर्ण काल सन 1960 से 1980 का काल कहलाता है।
👉प्राथमिक पोषक तत्व-नाइट्रोजन फॉस्फोरस पोटेशियम आदि
👉सूक्ष्म पोषक तत्व-बोरॉन एवं जिंक
👉जैविक अपशिष्ट को सड़ा कर कंपोस्ट खाद तैयार की जाती है।
👉अमोनियम सल्फेट, अमोनियम फास्फेट, कैलशियम अमोनियम नाइट्रेट आदि सभी उर्वरक हैं।
👉हरित क्रांति के जनक नॉर्मन बोरलॉग हैं भारतीय हरित क्रांति के जनक डॉ हरगोविंद खुराना है।
👉नीली क्रांति का संबंध मत्स्य से है।
👉श्वेत क्रांति का संबंध दुध से है
👉मृदा में पाए जाने वाले सूक्ष्म पोषक तत्व-लोहा, मैग्नीज, बोरोन, तांबा, मॉलीब्लेडिनम, क्लोरीन आदि।
👉नाइट्रोजन स्थिरीकरण करने वाले जीव-राइजोबियम क्लॉस्ट्रीडियम तथा एजोटोबेक्टर आदि हैं
👉पाश्चुरीकरण में खाद्य को 62 डिग्री सेल्सियस पर 30 मिनट तक या 71 पॉइंट 7 डिग्री सेल्सियस पर 15 मिनट तक गर्म करते हैं।
👉प्रमुख कीटनाशक-डीडीटी, बीएचसी, पायरेथ्रम, काटेनोम आदि।

फिजिक्स वन लाइनर नोट्स

chemistry वन लाइनर नोट्स

Leave a Comment

error: